Sablebadiya

प्रदेश की अर्थव्यवस्था कृषि प्रधान और अधिकांश जनसंख्या की जीविका कृषि पर आधारित है। प्रदेश में 77% से अधिक लघु एवं सीमांत कृषक हैं। इनके द्वारा मुख्य रुप से धान, चना, मक्का, अरहर, सोयाबीन, गन्ना की खेती की जाती है और अधिकांश कृषकों द्वारा एक फसल ली जाती है। प्रदेश में कुल उत्पादन का 70% धान को राज्य शासन द्वारा प्राथमिक सहकारी समितियों के माध्यम से समर्थन मूल्य पर उपार्जन किया जा रहा है। केंद्र तथा राज्य शासन द्वारा कृषको को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही है और किसानों को धान के अलावा अन्य फसल यह जाने के लिए प्रोत्साहित तथा आवश्यक संसाधन भी उपलब्ध करा रही है। इसी तारतम्य में कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल के मार्गदर्शन में छत्तीसगढ़ राज्य मंडी बोर्ड कृषकों की आय दोगुनी करने हेतु राज्य शासन की योजनाओं के अतिरिक्त कृषक हित मे मंडी अधिनियम में आवश्यक संशोधन कर किसानों की समृद्धि के लिये कार्य किये जा रहे है।

गौरतलब है कि कृषि उपज मंडी समितियों में प्रदेश के उत्पादक कृषकों द्वारा अपनी कृषि उपज को विक्रय हेतु लाया जाता है। मंडी बोर्ड एवं मंडी समितियों द्वारा बोर्ड शुल्क/ मंडी शुल्क से कृषकों तथा मंडी कृत्यकारियों को मंडी प्रांगण/ उप मंडी प्रांगण में आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने की दृष्टि से विभिन्न अधोसंरचना विकसित की जाती रही है।

Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>